Connect with us

Spiritual

चमत्कार: ऐसा मंदिर जहां मात्र फर्श पर सोने से प्रेग्नेंट हो जाती हैं निसंतान महिलाएं, वैज्ञानिक भी है हैरान, हर माँ की सुनी गोद भर जाती है

आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे मंदिर के बारे में जहां मात्र मंदिर के फर्श पर सोने से ही विवाहित निसंतान महिलाओं को होती है संतान की प्राप्ति.

इंटरनेट के इस युग में हम सोशल मीडिया के माध्यम से रोज़ाना कई सारि खबरे सुनते है, लेकिन इन में से कुछ खबरे ऐसी होती है जिसे सुनकर उसपर यकीन करना काफी मुश्किल लगता है, लेकिन चमत्कार कहि भी किसी रूप में हो सकती है और कुछ लोग इसे सच मानते है तो कुछ लोग इन चमत्कारों से इंकार कर देते है.

आज हम आपको इस ऐसी ही चमत्कार के बारे में बताने जा रहे है जो एक मंदिर से जुडी हुई है. यह कैसा अजीब चमत्कार है, आप इस के बारे में सुनेंगे तो आप को यकीं नहीं होगा भारत में कई ऐसे शक्तिशाली मंदिर है जिनके बारे में जानकर आश्चर्य होता है.

विविधाताओं के देश भारत में काफी कुछ ऐसा है जो वैज्ञानिक तर्कों से हट कर आस्‍था के चरम का कमाल नजर आता है. अब आप इसे ईश्‍वर में विश्‍वास कहें या अंधविश्‍वास पर ऐसे ही विज्ञान को हैरान करते चमत्‍कार की कहानी सुनाता है हिमाचल में स्‍थित सिमसा माता का मंदिर.

दरअसल भारत के इस मंदिर में यह मान्यता है कि यहां फर्श पर सोने से महिलाएं प्रेग्नेंट हो जाती …हम कोई मजाक नहीं कर रहे, ये हकीकत है। इस मंदिर के बारे में आपको बता रहें है जंहा निसंतान लोग संतान के लिए क्या-क्या नहीं करते.

ऐसा ही कुछ हिमाचल प्रदेश के एक गांव के मंदिर में होता है, हिमाचल के सिमस गांव में एक सिमसा माता का मंदिर है जिसके फर्श पर सोने से निसंतान महिलाऐ प्रगनेंट हो जाती है। वैसे तो महिलाएं संतान प्राप्ति के लिए न जाने कैसे-कैसे कष्टो से गुजरती हैं, लेकिन यहां तो सिर्फ फर्श पर सोने मात्र से संतान की प्राप्ति हो जाती है.

इस मंदिर को संतान-दात्री के नाम से जाने जाता है। यहां दूर दूर से महिलाऐ इस मंदिर के फर्स पर सोने के लिए आती है। नवरात्रा में यहां सलिन्दरा उत्सव मनाया जाता है जिसका अर्थ है सपने आना, निसंतान महिलाये दिन रात इस मंदिर के फर्स पर सोती है। नवरात्रों में हिमाचल के पड़ोसी राज्यों पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ से ऐसी सैकड़ों महिलाएं इस मंदिर की ओर रूख करती हैं जिनके संतान नहीं होती है.

नवरात्रों में निसंतान महिलायें मंदिर परिसर में डेरा डालती हैं और दिन रात मंदिर के फर्श पर सोती हैं ऐसा माना जाता है कि जो महिलाएं माता सिमसा के प्रति मन में श्रद्धा लेकर से मंदिर में आती हैं माता सिमसा उन्हें सपने में मानव रूप में या प्रतीक रूप में दर्शन देकर संतान का आशीर्वाद प्रदान करती है.

लोगो का मानना है की माता सिमसा सपने में महिलाओ को फल देती है और महिलाए सपने में माता से उस फल को लेती है। इसे यह संकेत मिल जाता है की माता ने संतान का का आशिर्वाद दे दिया है। सिर्फ इतना ही नहीं होता इस फल से इस बात का पता चल जाता की महिलाओं लड़का होगा की लड़की.

इस मंदिर की मान्यता के अनुसार, यदि कोई महिला सपने में कोई कंद-मूल या फल प्राप्त करती है तो उस महिला को संतान का आशीर्वाद मिल जाता है। यहां तक की देवी सिमसा आने वाली संतान के लिंग-निर्धारण का भी संकेत देती है.

जैसे कि, यदि किसी महिला को अमरुद का फल मिलता है तो समझ लें कि लड़का होगा। अगर किसी को सपने में भिन्डी प्राप्त होती है, तो समझें कि संतान के रूप में लड़की प्राप्त होगी। यदि किसी को निसंतान होने, धातु, लकड़ी या पत्थर की बनी कोई वस्तु प्राप्त हो तो समझा जाता है कि उसके संतान नहीं होगी। और उसके बाद भी वो महिला उस मंदिर से नहीं जाती है तो उसके शरीर में खुजली भरे लाल लाल दाग दिखने लगते है। इसलिए उसे मजबूरन वहां से जाना पड़ता है.

एक चमत्कार होता है यहां, सिमसा माता मंदिर के पास यह पत्थर बहुत प्रसिद्ध है। इस पत्थर को दोनों हाथों से हिलाना चाहो तो यह नही हिलेगा और आप अपने हाथ की सबसे छोटी ऊंगली से इस पत्थर को हिलाओगे तो यह हिल जायेगा.

अब ये तो मान्यताएं हैं और मान्यतों के बारे में हम क्या कहें, हम इस बात की पुष्टि नहीं करते लेकिन जो सत्य है वो तो है ही.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Spiritual

वैष्णो देवी जाने वाले भक्तों के लिए खुशखबरी: अब चढ़ाई करना हो गया आसान, आप वैष्णो देवी जाएं तो इस सुविधा का जरूर लाभ उठाएं

वैष्णो देवी जाने वाले सभी भक्तों के लिए यह बड़ी खुशखबरी है, जी हाँ, अगर आपके परिवार में भी छोटे बच्चे है और आप उन्हें भी साथ ले जाना चाहते है तो अब कोई भी मुश्किल नहीं, अब आप अपने छोटे बच्चों के साथ बड़े आराम से माता वैष्णो देवी के दर्शन कर सकते हैं. जैसा की सभी जानते है की पहले बच्चों को अपने पीठ पर बैठाकर ले जाना एक मात्र शदन हुआ करता था, लेकिन अब बच्चों के लिए प्रैम यानी गाड़ी की सुविधा शुरू कर दी गयी है, जिसमें एक साथ दो बच्चों को आसानी से बैठाकर माता वैष्णो के दरबार तक जाया जा सकता है.

किराया होगा इतना

अगर आप भी अपने बच्चों के लिए इस गाड़ी की शुभीधा लेना चाहते है तो आपको कटरा से अर्द्धकुंवारी तक 350 रुपए देने होंगे वहीं कटरा से भवन तक जाने के लिए लगभग 700 से 800 रुपए तक का किराया होगा.

खबरों के मुताबिक कुछ ही महीने पहले यहां रोप-वे जैसी सुविधा सर्विस की शुरूआत की गई थी, जिससे माता वैष्णो देवी के दर्शन करने के बाद भैरो जी के दर्शन करना पहले से काफी ज्यादा आसान हो गया है. इस रोप-वे के जरिए श्रद्धालुओं को 3 मिनट में माता के भवन से भैरो मंदिर तक पंहुचा दिया जाता है. और अगर इसके किराये की बात की जाये तो इसका किराया काफी काम रखा गया है.

बता दें की वैष्णो देवी दरबार से भैरोनाथ तक का किराया मात्र 100 रुपए है, और यहाँ एक बार में लगभग 42 यात्री जा सकते हैं, पहले के समय में पैदल जाने पर तकरीबन तीन से सवा तीन घंटे का समय लगता था, और घोड़े की सवारी करने पर प्रति व्यक्ति 300-500 रुपए चुकाने पड़ते थे.

बुजुर्गों के लिए है यह सुबिधा

मरीज, दिव्यांग और बुजुर्ग के लिए श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने वर्ष 2010 में अर्धकुमारी से वैष्णो देवी मंदिर के बीच बैटरी कार सेवा शुरू कर दी गयी थी. इस मार्ग पर तकरीबन 25 बैटरी कारें श्रद्धालुओं को सुबह 7 बजे से लेकर रात 10 बजे तक अपनी सेवाएं दे रही हैं, जिससे दिव्यांग मरीज़ तथा बुजुर्ग श्रद्धालुओं की परेशानियां काफी हद तक दूर हो गई हैं.

Continue Reading

Spiritual

आपको जरूर जानना चाहिए, वास्तुशास्त्र में मकड़ी के जाले बनाना शुभ माना जाता है या अशुभ

हमारे देश में धार्मिक मान्यताओं का काफी जयदा महत्त्व है. किसी भी शुभ कार्य में अच्छे बुरे संकेतो के अनुशार ही आने वाले समय में क्या होने वाला है यह बहुत से मौको पर तय हो जाता है. ऐसे कई संकेत हैं, जो हमें भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में बता देते हैं। जैसा की हम जानते है की मकड़ी अधिकतर सभी घरों में अपने जाले बनाती है। वास्तु के अनुसार मकड़ी के जाले घर में बनना बहुत अशुभ होता है।

अगर किसी भी घर के किसी कोने में या उस जगह पर जहा लोगो का आना जहन काफी जयदा रहता हो, मकड़ी के जाले होते हैं तो घर की सुख-समृद्धि का नाश होने लगता है क्योंकि नकारात्मक ऊर्जा के कारण घर का माहौल इतना अशांत हो जाता है कि व्यक्ति चाहकर भी अपने काम को मन लगाकर नहीं कर पाता है।

इसलिए मकड़ी के जालों को अशुभ माना जाता है। आपको बता दें कि मकड़ी के जालों की संरचना कुछ ऐसी होती है कि उसमें नकारात्मक ऊर्जा एकत्रित हो जाती है। वहीं मकड़ी के जाले घर में होने से घर में सकारात्मक ऊर्जा नहीं ठहर पाती है।

इसलिए घर के जिस भी कोने में मकड़ी के जाले होते हैं, वह कोना या हिस्सा नकारात्मक ऊर्जा से भर जाता है। घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास होने से कलह, बीमारियां व अन्य कई समस्याएं पैदा हो जाती हैं। रोजगार में कमी आने के साथ ही धन की कमी हो जाती है। अतः अगर आपको अपने घर को वास्तुदोष से मुक्त रखना है तो जैसे ही आपको अपने घर में मकड़ी के जाले दिखें उन्हें तुरंत साफ कर दें। मकड़ी से जुड़े कुछ और भी शुभ-अशुभ संकेत हैं आइये जानते हैं इनके बारे में.


ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर सपने में मकड़ी किसी स्‍थान पर ऊपर की ओर चढ़ते हुए दिखे तो ये तरक्‍की का संकेत माना जाता है, इसके साथ ही अगर सुबह उठते ही मकड़ी दीवार पर चढ़ती हुई दिखे तो इसे भी शुभ माना जाता है।ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर मकड़ी के जाले में आपको अपने नाम के अक्षरों की आकृति दिखाई दे तो यह शुभ शकुन माना जाता है और भविष्य में बड़े लाभ का संकेत होता है।

अगर आपके कपड़ों पर मकड़ी चढ़ जाए तो समझ लें कि आपको कहीं से नए कपड़े मिलने वाले हैं इसके साथ ही सपने में मकड़ी का नीचे गिरना अशुभ माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुशार, बहुत सारी मकड़‍ियां एक साथ दिखना हानिकारक माना जाता है ।

Continue Reading

Spiritual

तां-त्रिक ने हॉस्पिटल में किया आ-त्मा को वापस लाने के लिए हवन, पूरी कहानी जानकार दंग रह जायेंगे

हमारे देश भारत में कई सारे लोगो का अभी भी अन्धविश्वास पर गुजारा होता है. देश के कई कोनो में अभी भी एक स से एक पुरानी रस्में और कल्चर को अलग अलग तरीको से निभाया जाता हैं. यूं तो हर देश में किसी न किसी चीज़ से जुड़ी रस्मों, मान्यताओं के पीछे कोई ना कोई खास वजह छिपी होती है लेकिन हमारे देश में कुछ परंपराएं ऐसी भी हैं जिनके बारे में जानकर आप भी एक पल के लिए शॉक रह जाते है. आज की पोस्ट में हम आपके लिए एक ऐसी ही अजीबो गरीब कहानी लेकर आये है. जी हाँ अजमेर के एक अस्पताल में आत्मा के लिये हवन करवाया गया है.

ये हवन करने की वजह ये थी की मरने वाले की आत्मा वहां से घर जाकर परलोक रवाना हो सके. दरसल बात ये है कि अजमेर के जेएलएन हॉस्पिटल में एक शख्स की मौत हो गई थी. उसे एक्सीडेंट के बाद इलाज के लिए यहां भर्ती कराया गया था. लेकिन मौत के कई दिन बाद गांव वालों के साथ उसके घर वाले मृतककी आत्मा वापस लेने के लिए हॉस्पिटल पहुंच गए. उसके बाद अस्पताल में तन्त्र मन्त्र से हवन किया गया.

घटना शनिवार (9 मार्च) की है.मृतक के परिवार वालों का कहना था कि वे अपने बेटे की आत्मा को वापस लेने के लिए आए हैं. टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार बरोडा गांव के लोगों ने हॉस्पिटल के पुरुष वार्ड के पास हवन किया, उसके बाद आत्मा को वहां से साथ चलने का आव्हान किया और उसे लेकर गए. ऐसा करने के पीछे घर वालों का तर्क भी अजीबोगरीब था कि मौत यहाँ हुई लेकिन आत्मा मृत शरीर के साथ नहीं चली. ऐसे में उसे आव्हान कर यहाँ से घर ले जाकर उसकी अंतिम क्रिया करने उसे परलोक रवाना किया जायेगा.

मौत के बाद हवन से पसरी ख़ामोशी: यहाँ अस्पताल के प्रशासन ने किसी तरीके की टोकाटोकी नहीं की, ना ही सुरक्षा प्रहरियों ने उन्हें रोका. यहाँ तक कि अस्पताल में भर्ती लोग भी सहम गए. इसकी वजह हर कोई तांत्रिक क्रियाओं से बचने की जुग्गत में रहा.

Continue Reading
Entertainment2 months ago

पहले पति ने दिया तलाक, दूसरे ने भी घर से निकाला, अब दो दो बच्चे को अकेले ही पाल रही ये एक्ट्रेस

Entertainment2 months ago

माँ के बाद अब बेटी की किस्मत भी चमकाएंगे सलमान खान, पहली फिल्म से हिट हुई थी दोनों की जोड़ी

Entertainment3 months ago

मजदूर दिवस- भारत ही नहीं दुनिया के 80 देशों में आज है छुट्टी, मजदूरों ने अमेरिका को भी हिला कर रख दिया था

Entertainment3 months ago

अनुष्का शर्मा की राह पर चल पड़ी काजल अग्रवाल भी, इस क्रिकेटर पर आया ‘सिंघम’ हसीना का दिल

Entertainment3 months ago

मज़ेदार चुटकुले – टीचर – लड़किया कब बड़ी होती हैं लड़के – जब वो ब्रा पेहेन ने लगती हैं टीचर – लड़के कब बड़े होते हैं लड़किया :- जब वो

Entertainment3 months ago

इन 3 बॉलीवुड सितारों ने जो काम किया है, वो आज के युवाओं को एक नई सीख दे गया

Entertainment3 months ago

ये है बॉलीवुड कलाकारों के सबसे विवादित और चौंका देने वाला बयान जिसे सुनने के बाद यकीन नहीं होगा

Entertainment3 months ago

मशहूर अभिनेता शशि कपूर की खूबसूरत पोती के आगे फेल हैं सारी हीरोइनें, देखकर उड़ जाएंगे आपके भी होश

Entertainment3 months ago

23 साल की इस लड़की ने अगर बॉलीवुड में रख दिए अपने कदम, लोग इसकी खूबसूरत को देखकर भूल जाएंगे बाकि सबको

Entertainment3 months ago

दिशा पाटनी की कार्बन कॉपी है उनकी बहन खुशबू, सेना में हैं अधिकारी

Trending Now